डर लगता है...



पंख तो है पर उन्हें पसार कर,
उड़ने से डर लगता है .
यूँ तो ज़िन्दगी रुकी नहीं पर,
आगे बढ़ने से डर लगता है.

राहें है, है मंज़िल भी नज़र में,
है अपनी हर कोशिश भी असर में.
हिम्मत है पहाड़ नापने की पर,
चढ़ने से डर लगता है.

ऊंची-नीची लहरें अपनी कोई साथी नहीं.
पर ऐसी कोई लहर नहीं, जो आके जाती नहीं.
मछलियों से नाता है पर,
तरने से डर लगता है.

उलटी-पुल्टी पथरीली सी ज़िन्दगी की डगर है,
दोस्तों का साया भी है, दुश्मनो का भी कहर  है.
दिल संग हिम्मत का हथियार है पर,
लड़ने से डर लगता है.

उड़ते है हम फिर भी और हर पहाड़ चढ़ते है,
तैरते है हर दरिया में, हर सीमा पे लड़ते है.

आगे बढ़ते जाते है क्यूंकि
डरने से डर लगता है.
रुकते नहीं कभी कि डर से
हार जाने से डर लगता है.

Fear the things that are yet to come, admit your fear and when you are ready...face your fears.
Just don't give in to them.

Love,
Lipi Gupta


Copyright Lipi Gupta 8/11/2017, 8:07 PM IST

For more, visit: http://tantrumfits.com/%E0%A4%A1%E0%A4%B0-%E0%A4%B2%E0%A4%97%E0%A4%A4%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A5%88/

15 comments:

  1. Replies
    1. thank u avantika...subscribe for more.

      Delete
  2. Beautiful poem and very matured. Very apt and to the point. We should always understand that fear makes us lose the game. Keep your fear at bay and keep targetting your win

    ReplyDelete
  3. If we overcome our fears, we can overcome anything in this world.

    The poem is good. i like it

    ReplyDelete
  4. nycc poetry......but i never thought that i can find any person on internet who has the same title of her poem as like mine....

    https://darrlagtahaibymamtagupta.blogspot.com/2018/06/blog-post.html

    ReplyDelete
  5. nycc poetry......but i never thought that i can find any person on internet who has the same title of her poem as like mine....

    https://darrlagtahaibymamtagupta.blogspot.com/2018/06/blog-post.html

    ReplyDelete